केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गड़करी बोले वैश्विक स्तर पर देश की बदल रही छवि: गड़करी

केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गड़करी बोले वैश्विक स्तर पर देश की बदल रही छवि: गड़करी

जोधपुर। केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि माहेश्वरी समाज में अपने व्यापार चातुर्य व बुद्धि से पूरे विश्व में डंका बजाया है। देश की अर्थ व्यवस्था में इस समाज द्वारा दिए गए योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। अब माहेश्वरी समाज की जिम्मेदारी ज्यादा बढ़ गई कि वे अपने समाज के साथ ही संपूर्ण भारतवर्ष के युवाओं को रोजगार देने की दिशा में और अधिक कार्य करें ताकि संपन्नता के मामले में हम किसी से पीछे नहीं रहे। वे शनिवार को चामी पोलो मैदान में आयोजित माहेश्वरी महाकुंभ में बतौर मुख्य अतिथि उद्बोधन दे रहे थे। उन्होंने कहा कि वैश्विक स्तर पर भारत की छवि अब पहले जैसी नहीं रही। भारत ने न केवल अपने आर्थिक-सामाजिक परिदृश्य में बदलाव किया है, अब तो हम अपनी सोच को, मानसिकता को बदल रहे हैं। भारतीय अर्थव्यवस्था में पहली बार आधारभूत परिवर्तन किए गए। देश की आधारभूत संरचना को बेहतर करने के लिए विकास की गति दोगुनी कर दी है। सरकार के कई बड़े प्रोजक्ट है फ्लोर पर है, इनके पूरे होने से अवाम को बड़ी राहत मिलेगी।
वक्ताओं ने बताया ऐतिहासिक
इस दौरान केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री गजेंद्रसिंह शेखावत,पूर्व मंत्री किरण माहेश्वरी, अखिल भारतवर्षीय माहेश्वरी महासभा के सभापति श्यामसुंदर सोनी, महापौर घनश्याम ओझा, उपमहापौर देवेंद्र सालेचा सहित कई जनप्रतिनिधियों व बिजनेस टाइकून ने समारोह को संबोधित इसे ऐतिहासिक व मील का पत्थर बताया। प्रदेशाध्यक्ष जेएम बूब ने सभी का आभार ज्ञापित किया। संचालन अखिल भारतवर्षीय माहेश्वरी महासभा के महामंत्री व मुख्य समन्वयक संदीप काबरा ने किया। उन्होंने अंतराष्ट्रीय माहेश्वरी महाधिवेशन के उदेदश्यों व परिणीति के बारे में विस्तार से जानकारी दी। इससे पहले गड़करी के जोधपुर पहुंचने पर एयरपोर्ट पर मुख्य समन्वयक संदीप काबरा की अगुवाई में आयोजन समिति के सदस्यों ने उनका जोरदार स्वागत किया।
जय महेश से गूंजी सूर्यनगरी
इधर, सुबह माहेश्वरी संदेश व शोभायात्रा निकाली गई। संदेश यात्रा में देश के विभिन्न प्रांतों की सभ्यता, संस्कृति, खान-पान व रहन-सहन को प्रदर्शित करती कई झांकियां सम्मिलित हुई, जिनसे साक्षात भारत का दर्शन जींवत हो उठेगा। माहेश्वरी समाज के आराध्य भगवान महेश को शाही पालकी में विराजित कर राजसी ठाठ से सवारी निकाली गई, इससे सूर्यनगरी महेशमय हो गई। शोभायात्रा एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज से शुरू होकर विभिन्न मार्गों से होती हुई महाधिवशेन स्थल पोलो ग्राउंड पहुंची। पूरे रास्ते विभिन्न सामाजिक, धार्मिक, स्वयंसेवी, औद्योगिक व अन्य संगठनों की ओर से मारवाडी पंरपरा व पुष्प वर्षा कर से स्वागत किया गया। संदेश यात्रा पूर्वांचल, पश्चिमांचल, उत्तरांचल, दक्षिणांचल, मध्यांचल में विभक्त रहेगी जिनका स्वरूप बरबस ही ध्यानाकर्षण किया। शोभायात्रा में माहेश्वरी समाज के विशिष्ठ व्यक्ति शामिल रहे, जो पारंपरिक वेशभूषा में नेतृत्व कर रहे थे।
मधुर स्वरलहरियां घोलेगी मिठास
संदेश व शोभायात्रा में छत्तीसगढ़ की प्रसिद्ध बैंड के साथ माहेश्वरी समाज के युवाओं की बैंड विशेष आकर्षण का केंद्र रही। मेहरानगढ़, सहरिया, आरएसी, एफओडी, भटिंडा सहित विश्व की कई प्रसिद्ध बैंड तथा नौपत व शहनाई की सुमधुर स्वरलहरियों की जगलबंदी दर्शकों के श्रवण तंत्र में मिठास घोली वहीं अनाना की गेर, कच्छी घोडी नृत्य सहित लोक कलाकारों ने जोधपुराइट्स को रोमांचित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी।
श्लोगन से दिया सामाजिक संदेश
संदेश यात्रा में जय-जय महेश-जय भारत देश, स्वच्छ समाज-स्वस्थ भारत, बेटी ब्याहो-बहू पढ़ाओ, हमारा समाज-संस्कारित समाज, ए कम्यूनिटी कमिटेड टूवर्ड्स नेशन, एम्पावरिंग कम्यूनिटी-एम्पावरिंग नेशन, योगक्षेम व्हमवयं, सेवा त्याग सदाचार, साथ चलेंगे तभी बढ़ेंगे, पर्यावरण की रक्षा-देश की सुरक्षा सहित विभिन्न श्लोगन लिखी तख्तियों के माध्यम से समाज विकास, करीतियों का निदान, पर्यावरण संरक्षण व देशभक्ति का संदेश दिया गया।
लाइट एंड साउड शो से सामाजिक कुरीतियों पर प्रहार
शाम को नीलकण्ठ लाइट एण्ड साउण्ड शो हुआ। इसमें नृत्य नाटिका के माध्यम से सामाजिक विसंगतियों व दैनिक जीवन के सरोकारों से ताल्लुख रखने वाली समस्याओं पर कटाक्ष से तीख प्रहार किया गया। कार्यक्रम की परिकल्पना चन्द्रा बूब, निर्देशन थियेटर विशेषज्ञ अजयकरण जोशी, आवाज जफर खान सिन्धी, कोरियोग्राफी- कंचन जाजू, प्रेरणा राठी तथा ख्याती जाजू करेंगी वहीं स्वर राजेंद्र वैष्णव व अजय पुरोहित थे। रेखा भूतड़ा, महक डागा, निधी सोनी, रानू माछर, प्रियंका डागा, पुनम बूब, कृतिका बूब, गरिमा मुथा, अर्पिता डागा, डिम्पल माहेश्वरी, नन्दिनी मानधना, नेहा चाण्डक, प्रज्ञा माहेश्वरी, प्रियंका भूतड़ा, रंजना राठी, शर्मिला मनिहार, मनीषा झंवर, विनीता पुंगलिया, मानषी शारदा, पूजा डागा, राधिका बजाज, राधिका बूब, अनामिका बूब, राधिका राठी, विन्नी माहेश्वरी, हिमानी राठी, दृष्टि राठी, अदिती शारदा, नेहा शारदा, मेघा लोहिया, ज्योति चाण्डक, प्रियंका जाजू, राधिका जाजू मनमोहक प्रस्तुतियां दी।
इनोवेटिव आइडियाज को मिला प्लेटफॉर्म
शाम को ग्लोबल एक्सपो में युवाओं के लिए उद्यमशीलता और नए रोजगार सृजन के अवसरों के लिए स्टार्ट-अप चैलेंज का आयोजन हुआ। एमजीसी स्टार्ट-अप चैलेंज को लेकर युवा उद्यमियों में भारी उत्साह देखा गया। देश के 13 राज्यों से 175 आइडियाज की प्रविष्टियां प्राप्त हुई। इसमें महाराष्ट्र 63, राजस्थान 46, मध्यप्रदेश 17, पश्चिम बंगाल 8, गुजरात 8, कर्नाटक 8, दिल्ली 7, तेलंगाना 6, यूपी 3, हरियाणा 2 तथा उड़ीसा व छत्तीसगढ़ की एक-एक प्रविष्टि शामिल है। स्टार्ट-अप चैलेंज में आईटी आधारित 50, औद्योगिक उत्पाद 15, शैक्षिक या सामाजिक 15, कृषि आधारित 15, चिकित्सा विकास 10, खाद्य सेवा क्षेत्र 8 तथा 6 अपशिष्ट रीसाइक्लिंग सहित कई सेक्टर्स के आवेदन शामिल थे। नवाचार के लिए लाखों के पुरस्कार भी रखे गए। स्टार्ट-अप चैलेंज में राधाकिशन दम्मानी- डी-मार्ट, एचएम बांगर- श्रीसीमेंट, किशोर बिहानी-फ्यूचर गु्रप, त्रिभुवन काबरा- आरआर काबेल, विष्णुकांत भूतड़ा- शिल्पा मेडिकेयर, सत्यनारायण नुवल-सोलर एक्सप्लोजिव लिमिटेड, राजेश मालपानी-मालपानी गु्रप, महावीर लोहिया- लोहिया ग्रुप, भारत तापडिया- स्मिता कंडक्टर लिमिटेड तथा कार्तिकेय बाल्दवा- आईजोरियल बॉयोमेड इन कॉरपोरेशन बतौर अतिथि शरीक हुए।