अन्तर्राष्ट्रीय माहेश्वरी महाधिवेशन (महाकुंभ) एवं माहेश्वरी ग्लोबल एक्सपो-2019 सम्पन्न

अन्तर्राष्ट्रीय माहेश्वरी महाधिवेशन (महाकुंभ) एवं माहेश्वरी ग्लोबल एक्सपो-2019 सम्पन्न

सूर्य नगरी के नाम से विख्यात राजस्थान के जोधपुर शहर में दिनांक 4-5-6-7 जनवरी 2019 को इण्डस्ट्रियल ट्रेड फेयर ‘‘माहेश्वरी ग्लोबल एक्सपो 2019’’ के साथ ही दिनांक 5-6 जनवरी 2019 को अंतर्राष्ट्रीय माहेश्वरी महाधिवेशन (महाकुंभ) एवं ‘‘माहेश्वरी ग्लोबल कन्वेन्शन’’का भी शानदार तरीके से आयोजन हुआ। आयोजन के मुख्य आयोजक अखिल भारतवर्षीय माहेश्वरी महासभा के साथ ही पश्चिमी राजस्थान प्रादेशिक माहेश्वरी सभा एवं जोधपुर जिला माहेश्वरी सभा थे।
कार्यक्रम की व्यवस्था के लिए विभिन्न समितियाँ बनाई गई थी, जिनमे (1) मुख्य समन्वय एवं संचालन समिति (2) संदेश/शोभा यात्रा समिति (3) स्टॉल पंजीकरण समिति (4) आवास व्यवस्था (होटल) समिति (5) आवास व्यवस्था (सामाजिक) समिति (6) स्वागत समिति (7) स्मारिका प्रकाशन एवं इतिहास संकलन समिति (8) स्टार्टप समिति (9) चाय-पान समिति (10) किट वितरण व्यवस्था समिति (11) भोजन निर्माण एवं वितरण व्यवस्था समिति (12) कार्यालय व्यवस्था समिति (13) पर्यटन/टूर एण्ड ट्रेवल्स/आरक्षण हेल्प डेस्क समिति (14) जल प्रबंधन समिति (15) सुरक्षा व्यवस्था समिति (16) टेक्नीकल एन्टरटेंटमेंट समिति (17) विशिष्ट जन समिति (18) अप्रवासी भारतीय समिति (19) माहेश्वरी ग्लोबल एक्सपो सेमीनार (20) ग्राउंड ले-आउट समिति (21) चिकित्सा व्यवस्था समिति (22) सांस्कृतिक समिति (22) एमजीसी जॉब फेयर समिति (23) टीम ब्रान्डिंग समिति (24) यातायात व्यवस्था समिति एवं (25) प्रशासनिक अधिकारी समिति। इनमें वरिष्ठजनों के साथ ही नवयुवकों ने पूरी भागीदारी निभाई।
अधिवेशन में परिवहन हेतु 500 से अधिक वाहनों की व्यवस्था की गई। पंजीकृत बंधुओं को स्टेशन पर स्वागत से लेकर वापस रवाना होने तक ठहरने, खान-पान, यातायात, चाय, पानी इत्यादि सम्पूर्ण व्यवस्था आयोजकों द्वारा उपलब्ध करवाई गयी।
लगभग 30 देशों और भारत के हर कोने से पधारे लगभग 40,000 माहेश्वरी भाई-बहनों के इस ‘‘महासम्मेलन’ के मुख्य प्रणेता सभापति श्री श्याम सुन्दर सोनी तथा महामंत्री श्री संदीप काबरा सहित आयोजक श्री जे.एम. बूब, श्री रतनलाल डागा, श्री भगवान दास राठी, श्री पुरुषोत्तम मूंदड़ा और समस्त टीम की पूरे कार्यक्रम में विनम्रता तथा समाज के लिए कुछ कर गुजरने की तड़प एवं सभी के लिए अपनेपन का अहसास उपस्थित समाजगंगा के चित्त पर चिर काल के लिए अंकित हो गए।
जयपुर जिले सहित पूर्वोत्तर राजस्थान प्रदेश से सैकड़ों माहेश्वरी बंधुओं ने इस ऐतिहासिक अधिवेशन में अपनी उपस्थिति दर्ज की।
अधिवेशन के गौरवशाली पल-दिनांक 5 जनवरी 2019 को प्रातः समाज संदेश यात्रा तथा माननीय केन्द्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री माननीय श्री नितिन गड़करी द्वारा सम्मेलन का उद्घाटन तथा दिनांक 6 जनवरी 2019 को माननीय लोकसभा अध्यक्ष श्रीमती सुमित्रा महाजन एवं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री देवेन्द्र फडणवीस द्वारा प्रतिभा सम्मान समारोह रहा। सम्मेलन में दिनांक 5 जनवरी को विभिन्न वक्ताओं के सामाजिक एवं आर्थिक समस्याओं पर चिंतन मनन योग्य उद्बोधन सुनने को मिले जिसमें उच्चतम न्यायालय के भूतपूर्व न्यायाधीश माननीय श्री रमेश चन्द लाहोटी का उद्बोधन-‘‘चुनौती अस्तित्व की’’ प्रमुख था। साथ ही डॉ. संजय मालपानी द्वारा ‘‘सेवा का पथ समृद्धि तक’’, श्रीमती गीता मूंदड़ा का ‘‘बदलते परिवेश में हमारी सृष्टि, हमारी दृष्टि’’, भूतपूर्व सभापति श्री रामपाल सोनी द्वारा ‘‘कदम-कदम बढ़ता हमारा कांरवा’’, सभापति श्री श्याम सुन्दर सोनी ‘‘विजन 2030’’, श्री सुशील मंत्री ‘‘सबको आवास सबका विकास’’, श्री ए.पी. माहेश्वरी द्वारा Only Those who know how to merge will eventually Re-emerge, श्रीमती मोनिका पनपालिया Opportunities in Artificial Intelligence and Digitalisation, श्री रमेश मर्दा कुछ समझें-कुछ समझायें-पारिवारिक जीवन सुखमय बनायें, श्री विकास भूतड़ा Bringing out the Best Globally, श्री रमेश परतानी Creating Genius Generation Next दिनांक 5 जनवरी को रात्रि में महासभा कार्यसमिति एवं कार्यकारी मण्डल की मीटिंग हुई जिसमें कई प्रस्तावों पर चर्चा हुई। दिनांक 6 जनवरी को अधिवेशन के पंचम सत्र में समाज से संबंधित कई प्रस्ताव पारित किए गये।
दिनांक 6 जनवरी को तृतीय सेशन में श्री परिमल मर्चेन्ट द्वारा Scaling Up of Family Business श्री पी.सी. मोदी द्वारा सुदृढ़ वित्तीय प्रबंधन-चुनौतियों का अवसर में क्रियान्वयन श्री रमाकान्त बाहेती Revolutionising The Business Enterprises, श्री विष्णुकान्त भूतड़ा Opportunities in Generic and Complex Healthcare, श्री कार्तिकेय बल्दवा Globalisation of Ayurveda, श्री श्रीकांत बाल्दी Avenues of Higher Education-How to Excel, श्री आनन्द राठी द्वारा Opportunities in the upcoming Decade in Finance विषयों पर सारगर्भित उद्बोधन से सभी को लाभान्वित किया गया।
चतुर्थ सेशन में श्री राजेश चांडक द्वारा ‘‘समाज और संगठन-पारस्परिक अपेक्षायें’’, श्री जयप्रकाश काबरा द्वारा व्यक्तित्व एवं प्रतिभा विकास के क्षितिज विषयों पर सारगर्भित उद्बोधन किये गये।
इसके साथ ही माहेश्वरी ग्लोबल एक्सपो के सेमीनार हॉल में दिनांक 5 जनवरी 2019 को विभिन्न विषयों जैसे (A) Direct/Online Marketing (B) Organised Retail (C) Organic Sector पर विभिन्न वक्ताओं द्वारा उद्बोधन दिये गये। दिनांक 6 जनवरी को महिला संगठन सेमीनार के अंतर्गत जस्टिस आर.सी. लाहोटी, श्रीमती मोनिका पनपालिया एवं श्रीमती संगीता काबरा बांगड़ द्वारा सामाजिक विषयों पर भी परिचर्चा की गई जिसमें ‘‘बढ़ें एक बेहतर समाज की ओर’’, ‘‘नये युग में बदलती हुई विवाह उम्र’’, ‘‘सादगी या दिखावा एक द्वन्द’’, ‘‘शादी और करियर में संतुलन’’, ‘‘पारिवारिक संवाद कैसे बढ़ायें-अभिभावक और बच्चों के बीच’’ विषयों पर उद्बोधन दिए गये। 6 जनवरी को ही Education in the 21st Century : Challenges and Opportunities, बदलते परिवेश में आर्थिक और व्यापारिक चुनौतियां एवं समाधान, बदलते परिवेश में युवा आशायें, विश्वास एवं विकास विषयों पर भी Allen Carreer Institute, Kota, Manoj Soni & L.K. Maheshwari(BITS, Pilani), Gourishankar Gupta, IAS (Retd.), Pawan Sarda, Dinesh Patwari, IRS & Sanjay Pungalia, IRS द्वारा सारगर्भित एवं प्रेरक उद्बोधन दिये गये।
रात में आयोजित एन्टरटेंटमेंट के अंतर्गत 4 जनवरी को रवि जाखोटिया द्वारा प्रस्तुति, 5 जनवरी को अनूठे सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘नीलकंठ’ तथा 6 जनवरी को कवि सम्मेलन का आयोजन भी किया गया जिसमें शैलेश लोढ़ा (तारक मेहता), कीकू शारदा, शांतनु माहेश्वरी के साथ ही हासिम फिरोजाबादी ने भी मनोरंजक प्रस्तुतियाँ दी।
सम्मेलन की विशिष्ट उपलब्धियों में ‘‘खाने की बर्बादी रोकना तो जोधपुरवासियों से सीखें’’। उनके अथक परिश्रम तथा टीम के हर कार्यकर्ता द्वारा इस प्रकार व्यवस्था की गई कि प्लेट में झूठन का नाम निशान नहीं था। एक अन्य सीखने जैसी बात जिसे हम संदेश के रूप में भी ले सकते हैं वह है ‘‘सत्कार समारोह में समय की बचत’’। समाज के समर्पित दानदाताओं तथा भिन्न-भिन्न क्षेत्रों में शिखर पर पहुंचे व्यक्तियों का सत्कार अत्यंत सम्मानपूर्वक हुआ जिससे सभी को प्रेरणा मिली।
यह महाकुंभ जीवन का एक ऐतिहासिक एवं अविस्मरणीय महाकुंभ साबित हुआ है। निश्चय ही समाजहित में इसके दूरगामी परिणाम होंगे।